Home Hindi 1962 युद्ध के समय हमसे सिर्फ 12% ज्यादा थी चीन की जीडीपी,...

1962 युद्ध के समय हमसे सिर्फ 12% ज्यादा थी चीन की जीडीपी, आज भारत से 5 गुना बड़ी इकोनॉमी; डिफेंस बजट हमसे 8 गुना

भारत-चीन सीमा पर 22 दिन से जारी तनाव के बाद दोनों देशों की सेनाएं टकराव वाले पॉइंटसे पीछे हटने को राजी हो गई हैं। हॉट स्प्रिंग और गोगरा इलाके में भी सेनाएं पीछे हट रही हैं। यह प्रोसेस कुछ दिनों में पूरी हो जाएगी। तनाव के दौरान चीनी सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में लगातार भारत के खिलाफ लिखा गया। उसी ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट में दावा किया गया कि 1962 में भारत और चीन की अर्थव्यवस्था लगभग बराबर थी। इस वक्त चीन भारत के मुकाबले बहुत बड़ी इकोनॉमी है। अगर भारत और चीन के बीच युद्ध होता है तो भारत को बहुत नुकसान होगा।आइए जानते हैं 1962 में कैसी थी दोनों देशों की आर्थिक स्थिति, तब से आज तक किस तरह बदली दोनों देशों की अर्थव्यवस्था की हालत। इसके लिए हम दोनों देशों की जीडीपी, पर कैपिटा जीडीपी, एक्सपोर्ट और इंपोर्ट की जीडीपी मेंहिस्सेदारी, उद्योगों का जीडीपी में योगदान, दोनों देशों की आबादी और डिफेंस बजट में आए बदलाव का एनालिसिस करेंगे।जीडीपी : ओपन करने के बाद चीन की इकोनॉमी 39 गुना और भारत की 9 गुना बढ़ी1962 में भारत-चीन के बीच युद्ध हुआ। उस वक्त दोनों देशों की ताकत में ज्यादा फर्क नहीं था। तब चीन की जीडीपी भारत से करीब 12% ज्यादा थी। आज दोनों देशों की जीडीपी में 5 गुनासे ज्यादा का फर्क हो गया है। चीन ने अपनी इकोनॉमी 1980 में ओपन की। तब से अब तक 39 साल में उसकी इकोनॉमी 75 गुना बढ़ी। वहीं, भारत ने 1991 में अपनी इकोनॉमी ओपन की। उसके बाद 28 साल में भारत की इकोनॉमी 9 गुना बढ़ी है।2019 में भारत की इकोनॉमी में एक्सपोर्ट की हिस्सेदारी चीन से 0.24% ज्यादा1962 में दोनों देशों की इकोनॉमी में एक्सपोर्ट की हिस्सेदारी जीडीपी के4% से कुछ ज्यादा थी। युद्ध के बाद के सालों में दोनों का एक्सपोर्ट घटा,लेकिन 1980 के बाद चीन ने पूरी ताकत के साथ सस्ते सामान और लेबर के जरिए दुनियाभर के बाजारों में अपनी पकड़ बढ़ानी शुरू की। 2010 में उसकी जीडीपी का 27% हिस्सा एक्सपोर्ट से ही आया। हालांकि, बाद के सालों में चीन ने बाकी सेक्टर से कमाई बढ़ाई तो एक्सपोर्ट का जीडीपी में योगदान घट गया।भारत ने भी 1991 में जब अपनी अर्थव्यवस्था खोली तो उसकी इकोनॉमी में भी एक्सपोर्ट की हिस्सेदारी बढ़ी। 2019 में भारत ने एक्सपोर्ट से जीडीपी में 18.66% जोड़ा तो वहीं चीन 18.42% जोड़ सका। भारत ने 2019 में चीन से 0.24% ज्यादा अपनी जीडीपी में जोड़ा लेकिन, चीन भारत से पांच गुना बड़ी अर्थव्यवस्था है इसलिए उसका 18.42% भी हमारे 18.66% से करीब चार गुना ज्यादा है।चीन कीतुलना में दूसरे देशों से खरीद पर भारत ज्यादा निर्भर, लेकिन इसे घटाने की कोशिश कर रहा1962 युद्ध के वक्त चीन की तुलना में भारत की जीडीपी में इंपोर्ट की हिस्सेदारी दोगुने से ज्यादा थी। उस वक्त भारत की जीडीपी में इंपोर्ट का हिस्सा 6.03% था तो चीन की जीडीपी में इंपोर्ट का शेयर2.91% था। बाद के सालों में दोनों देशों की इकोनॉमी में इंपोर्ट की हिस्सेदारी बढ़ती गई। चीन की इकोनॉमी में अब इंपोर्ट का हिस्सा 17.26% है वहीं, भारत में ये 21.36% है। यानि, भारत और चीन दोनों की दूसरेदेशों से खरीद पर निर्भरता बढ़ी है। हालांकि, दोनों देशों ने पिछले 10 साल में ये निर्भरता घटाई है।ग्लोबल ट्रेड में चीन से 14.4% पीछे है भारतदुनिया को सर्विसेस और गुड्स एक्सपोर्ट के मामले मेंभारत से चीन आगे है। दूसरी ओर भारत के मुकाबलेचीन इंपोर्ट भी काफी कम करता है।यह दिखाता है कि चीन की इकोनॉमी का बेस मजबूत है। भारत के मुकाबले चीनपांच गुनाबड़ी इकोनॉमी है। ग्लोबल ट्रेड में में भी चीन का 18% से ज्यादा शेयर है, जबकि भारत का सिर्फ 2.6% है।1962 में भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी चीन से ज्यादा थी, अब चीन की हमसे 5 गुना ज्यादा1990 तक हमारी प्रति व्यक्ति जीडीपी चीन से ज्यादा थी। चीन की इकोनॉमी ओपन होने और जनसंख्या नियंत्रण को लेकर सख्त कदम उठाने की वजह सेचीन की प्रति व्यक्ति जीडीपी तेजी से बढ़ी।चीन ने 29 साल में उद्योगों की हिस्सेदारी 5.47% बढ़ाई, भारत 2.57% ही बढ़ा पायाइकोनॉमी ओपन करने के बाद चीन की जीडीपी 3200% बढ़ीभारत से 2 साल बाद 1949 में चीन में व्यवस्था परिवर्तन हुआ। चीन का फोकस डोमेस्टिक इकोनॉमी पर था। उसने यह तय किया कि कहां पर फॉरेन इन्वेस्टमेंट लाना है और कहां नहीं। उसने इकोनॉमिकल एरिया डेवलप किए, जिसके लिए उसने चीन के दक्षिण तटीय क्षेत्रों को चुना।चीन में आर्थिक क्रांति लाने वाले डांग श्याओपिंग ने 1978 से कम्युनिस्ट सोशलिस्ट पॉलिटिकल स्ट्रक्चर में सुधार शुरू किया और इकोनॉमी में मॉडर्नाईजेशन लाए। उस वक्त चीन का दुनिया की अर्थव्यवस्था में हिस्सा 1.8% था। श्याओपिंग के सुधारों के बाद चीन की इकोनॉमी में बहुत बड़ा बदलाव आया। इसवजह से1980 से लेकर 2016 तक चीन की जीडीपी 3200% बढ़ी। 2017 में दुनिया की अर्थव्यवस्था में उसकी हिस्सेदारी 18.2% हो गई। इसी बीच चीन की आधी से ज्यादा आबादी यानी लगभग 70 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा से ऊपर लाया गया और 38.5 करोड़ लोग मिडल क्लास में शामिल हुए। चीन का फॉरेन ट्रेड 17,500% बढ़ा और 2015 तक चीन फॉरेन ट्रेड में वर्ल्ड लीडर के तौर पर उभरा। 1978 में चीन ने पूरे वित्त वर्ष में जितने का ट्रेड किया था, उतना अब 48 घंटे में कर लेताहै।वहीं, भारत ने चीन से 11 साल बाद 1991 में विदेशी निवेश के लिए दरवाजे खोले। भारत काग्लोबलाइजेशन की तरफ बढ़ना एक फाइनेंशियल इमरजेंसी थी। चीन ने अपनी इकोनॉमी में सुधार के लिए जो बदलाव किए उसे सख्ती से लागू किया। वहीं, लोकतांत्रिक देश भारत उदारवादी नीति के तहत आगे बढ़ा।1962 में हमसे 41% ज्यादा आबादी वाला देश था चीन, अब सिर्फ 4% का अंतरभारत का डिफेंस बजट 4.71 लाख करोड़, चीन का डिफेंस बजट हमसे चार गुना ज्यादाइस साल का भारत का कुल बजट 30.42 लाख करोड़ रुपए का है। जबकि, चीन का 258.40 लाख करोड़ रुपए है। चीन का बजट भारत के मुकाबले 8 गुना से भी ज्यादा है। चीन लगातार अपना डिफेंस बजट भी बढ़ा रहा है। इस वक्त उसका कुल डिफेंस बजट 13.47 लाख करोड़ रुपए का है। वहीं, भारत का डिफेंस बजट चीन के मुकाबले सिर्फ25% यानी4.71 लाख करोड़ रुपए है। 1962 में भारत का डिफेंस बजट कुल जीडीपी का 1.5% था। हालांकि, अक्टूबर 1962 में चीन से युद्ध के चलते डिफेंस बजट बढ़ाकर 2.34% कर दिया था। 2018-19 में ये घटकर 1.49% रह गया। 56 साल में पहली बार इतनी कमी आई।2020-21 के बजट में ये जीडीपी का 2.1% है।ग्लोबल टाइम्स के इस दावे में कुछ नया नहीं है कि भारत चीन से छोटी इकोनॉमी है, लेकिन सैन्य शक्ति में भारत चीन से कमजोर नहीं है। भारत का डिफेंस बजट चीन से कम इसलिए भी है क्योंकि चीन भारत से बड़ी इकोनॉमी है। दूसरी वजह यह भी है कि चीन एक विस्तारवादी कम्युनिस्ट साम्राज्य है और इसे बनाए रखने के लिए उसे एक एग्रेसिव आर्मी की जरूरत है, जबकि भारत एक समाजवादी लोकतंत्र है। अगर चीन के पास दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सेना है तो भारत भी दुनिया में तीसरे नंबर पर है। ग्लोबल टाइम्स के इस दावे में भी कोई दम नहीं किनुकसान सिर्फ भारत का होगा, बल्कि दो बड़ी शक्तियों के टकराव से नुकसान दोनों का होता है। चीन इस वक्त अमेरिका से ट्रेड वॉर का सामनाभी कर रहा है , ऐसे में उसे निवेश के लिए भारत जैसेबड़ी बाजार की जरूरत है। बॉर्डर पर चीन कीतरफ से तनाव बढ़ाना भारत पर दबाव बनाने का एक तरीका था जिससे भारत अपने बाजार के दरवाजे चीन के लिए खोल दे।
आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

India GDP vs China GDP Growth Rate Comparison 1961-2020 | China Defence Budget Latest News | Know How Much Does China Spends On Defence

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

AGR Dues Case Live News: Telcos are behaving dishonestly, observes SC – The Economic Times

UPSC Live News: UPSC to hold interviews for the remaining candidates from 20th to 30th of July  Economic Times Source link

SpaceX falcon 9 launch time: What time will Elon Musk’s company conduct the rocket launch? – Republic World

SpaceX falcon 9 launch time: What time will Elon Musks company conduct the rocket launch? - Republic World  Republic World Source link

Assam flood havoc continues, 2,400 villages deluged, 1.45 lakh people sheltered in 564 relief camps, more rains predicted

Assam Chief Minister Sarbananda Sonowal on Monday informed that over 70 lakh people have been affected due to the floods.  Source link

Covaxin: दिल्ली AIIMS में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल आज से, जानिए 5 बड़ी बातें

स्वदेशी कोरोना वैक्सीन पर सबसे अच्छी खबर जल्द मिलने वाली है क्योंकि देश के 12 संस्थानों में इस वैक्सीन पर मानव परीक्षण का काम...

Recent Comments